जानिए चाय के विभिन्न प्रकार एवं उन्हें बनाने के तरीके

जानिए चाय के विभिन्न प्रकार एवं उन्हें बनाने के तरीके

आज के समय में सुबह बिना चाय या काँफी के नहीं होती | चाहे व्यक्ति छोटा हो या बड़ा चाय सबकी जरुरत बन चुकी है , पर चाय के विभिन्न प्रकार एवं उसे बनाने का सही तरीका बहुत कम ही लोगों को पता हैं | चाय सेहत के लिए फायदेमंद हैं पर इसका तात्पर्य यह नहीं कि हम दिनभर में कई कप चाय पी जाए | हमें एक दिन में  2  से  3  कप चाय ही पीनी चाहिए | जिन व्यक्तियों को एसिडिटी की शिकायत हो , उन्हें चाय नहीं पीनी चाहिए | बहुत से लोग या अधिकतर छोटे बच्चे चाय को भोजन के साथ लेते हैं जो की हानिकारक हैं , इससे आपकी पाचन क्रिया प्रभावित हो सकती हैं |

चाय 

चाय के पेड़ से उसकी छोटी पत्तियों को तोड़कर प्रोसेसिंग क्रिया के बाद उसकी पैकिंग की जाती हैं | चाय की पत्तियों को तोड़ने के लगभग 24 घंटे के अन्दर उसकी पैकिंग कर दी जाती हैं , ताकि उसका स्वाद प्रभावित ना हो | इसी कारण चाय की फैक्टरियाँ चाय के बागानों के पास ही स्थित होती हैं |

चाय 

चाय बनाने की विधि

अक्सर चाय बनाने के लिए व्यक्ति खौलते हुए पानी में ही चाय की पत्तियाँ , दूध , चीनी तथा अदरक डाल देते हैं  एवं काफी देर तक उबलने देते हैं | यह तरिका गलत हैं | इससे चाय के पत्तियों का स्वाद समाप्त हो जाता हैं | चाय को बनाने के लिए सबसे पहले पानी को उबाल ले , उसके बाद उसे थोड़ा ठण्डा होने दे , फिर अपनी आवश्यतानुसार एक कप चाय के लिए एक चम्मच  के हिसाब से चायपत्ती डाल दे एवं ढक्कन बन्द कर दे | कुछ समय बाद उसे कप में ढाल कर  अपनी आवश्यकतानुसार उसमे चीनी और दूध डाल दे | इस प्रकार आपकी गरम – गरम स्वादिष्ट चाय तैयार हो जायेगी |

चाय के प्रकार

चाय के कई प्रकार हैं पर इन सभी प्रकार के चाय का मुख्य स्रोत एक ही पौधा हैं | आइए जानते हैं चाय के विभिन्न प्रकार एवं उन्हें बनाने की विधि –

  •  ग्रीन टी

ग्रीन टी की पत्तियाँ बहुत ही कोमल होती है  , इसलिए इसे बनाते समय इस बात का विशेष ख्याल रखे की पानी ज्यादा न उबले अन्यथा इसका स्वाद व् महक दोनों ही नष्ट हो जायेगीं |

ग्रीन टी

  • लेमन ग्रास टी

लेमन ग्रास टी , लेमन ग्रास की पत्तियों से बनाई जाती हैं | इसके लिए लेमन ग्रास की दो से तीन पत्तियाँ या शाखाएँ लेकर उन्हें  अच्छी तरह से धोकर बारीक टुकड़ो में काट ले | इसके बाद एक कप में गर्म पानी लेकर उसमे इसे डाल दे और तब तक इंतजार करे जब तक पानी का रंग बदलता है | उसके बाद इसमे नीबूं कि कुछ बूदें डाल दे और स्वाद के अनुसार चीनी भी उसमे डाल डे | इस प्रकार आपकी लेमन ग्रास टी तैयार हो गयी |

लेमन ग्रास टी 

  • लेमन टी

लेमन टी बनाने के लिए सबसे पहले पानी को उबाले , उसके बाद उसमें चाय की पत्तियाँ डाल दे | जब पानी का रंग बदल जाए तो उसमें स्वादानुसार चीनी या शहद डाल दे | उसके बाद उसमे नीबूं को निचोड़ कर डाल दे एवं ऊपर से थोड़ा सा काला नमक डाल दे और आपकी लेमन टी तैयार हैं |

लेमन टी 

  • हिबिस्कस टी ( गुड़हल की चाय )

हिबिस्कस टी को गुड़हल के फूल से बनाते हैं | इस चाय का रंग लाल होता हैं | इसके लिए सबसे पहले गुड़हल के फूलों को साफ़ पानी से धोकर उबलते हुए पानी में डालें | कुछ देर ( लगभग 15 से 20 मिनट )  तक उबालने के बाद उसे छान ले | इसका स्वाद खट्टा या मीठा हो सकता हैं | चाय को मीठा करने के लिए उसमे चीनी या शहद डाल सकते हैं | कुछ नीबूं की बूंदे भी डाल सकते हैं, इससे स्वाद बढ़ जाएगा |

हिबिस्कस टी ( गुड़हल की चाय )

  • रोज टी ( गुलाब की चाय )

रोज टी बनाने के लिए गुलाब के फूल की 5 से 10 कलियाँ चाहिए | सबसे पहले पानी को गर्म कर लीजिए उसके बाद गैस स्टोव को बन्द कर उसमे गुलाब के फूल की कलियों को डाल दीजिए और कुछ समय के लिए छोड़ दीजिए | जब पानी का रंग लाल हो जाए तो कलियों को निकाल लीजिए | स्वाद के लिए उसमे मसाले , दूध एवं चीनी या शहद डाल सकते हैं |

रोज टी ( गुलाब की चाय )

  • हर्बल टी

हर्बल टी सिर्फ चाय नहीं बल्कि एक प्रकार का औषधीय काढ़ा हैं | इसे बनाने के लिए इसमें चाय की पत्तियों के अलावा विभिन्न प्रकार के पौधों की पत्तियों , तनो , बीजों , जड़ों एवं फूलो को डाला जाता हैं | इसमें अन्य प्रकार के चाय की तुलना में  कैफीन बिलकुल नहीं होता हैं |

हर्बल टी 

  • पिपरमेंट टी ( पुदीने के पत्ती की चाय )

पुदीने की पत्ती का प्रयोग मुख्यत: आम की चटनी , आम के पन्ना या चटनी में किया जाता हैं | यह पेट के पाचन तंत्र के लिए बहुत ही लाभदायक हैं | पिपरमेंट टी बनाने के लिए पुदीने की ताज़ी पत्तियाँ लेकर अच्छी तरह धोकर धूप में सुखा लीजिए | उसके बाद महीन बुक कर एक डिब्बे में रख लीजिए | अब जब भी पिपरमेंट टी पीने का मन हो तो एक बर्तन में पानी को गर्म करके उसमे दो चम्मच बुका हुआ पाउडर डाल दे , आवश्यकतानुसार उसमे चीनी या शहद भी डाल दे | उसके बाद इसे छान ले | आपकी पिपरमेंट टी तैयार हैं |

पिपरमेंट टी ( पुदीने के पत्ती की चाय )

  • ब्लैक टी

ब्लैक टी भी ग्रीन टी के समान ही होता हैं एवं इसे भी उसी प्रकार बनाते हैं | इसमें हर्बल टी के मुकाबले एंटीआक्सीडेंटस की मात्रा अधिक होती हैं |

ब्लैक टी 

 

Also read :  पुकार

Also read : ‘चन्द लम्हों की जिन्दगी अपनी’

Leave a Reply

Close Menu