घर का पता बता जाना

घर का पता बता जाना

जब हमसे मिलना ,

हाले दिल बयाँ कर देना |

उल्फतों का जहाँ ,

हम पर रवाँँ कर देना || 1 ||

 

 

जब हमसे नजरें मिलाना ,

हौले से पलके गिरा लेना |

तिरछी नजर के दीदार से ,

हम पर जाँ निसार कर देना || 2 ||

 

 

जब हमारे दिल में आना ,

चुपके से आशियाना सजाँँ लेना |

झाँझर की छनकती आवाज से ,

हमें अपना दीवाना बना लेना || 3 ||

 

जब हमसे इजहार करना ,

धीरे से रोम – रोम में बस जाना |

सुरमई शब्दों के जाल बिछाकर,

हमें अपना बंदी बना लेना || 4 ||

 

 

जब हमसे दूर जाना ,

इक बार पलट कर देख लेना |

नटखट मुस्कान भरी इशारों से ,

हमें अपने घर का पता बता जाना || 5 ||

सपन कुमार सिंह , 14/02/2008 , गुरूवार 

 

also read : ये मैनें जाना ना था !

also read : अच्छी नींद के लाभ – अच्छी नींद कैसे प्राप्त करें

Leave a Reply

Close Menu