आदत न थी

आदत न थी

Also read :  ‘चन्द लम्हों की जिन्दगी अपनी’

Also read :   छेड़ गया कोई !

आदत न थी

हमें लिखने की आदत न थी ,

पर आपकी सोहबत ने हमें लिखना सिखा दिया || 1 ||

हमें यू इशारों में बात करने की आदत न थी ,

पर आपकी नजरों ने हमें इशारों में बात करना सिखा दिया || 2 ||

हमें इस तरह बोलने की आदत न थी ,

पर आपके नगमों ने मेरे लब्जों को थिरकना सिखा दिया  || 3 ||

हमें इस तरह उलझने की आदत न थी ,

पर आपकी कटाक्षों ने हमें उलझकर उनसे लड़ना सिखा दिया || 4 ||

हमें इस तरह हँसने की आदत न थी ,

हमें इस तरह हँसने की आदत न थी ,

पर आपकी मासूमियत ने हमें हँसना सिखा दिया || 5 ||

Also read :  इतना ना मुस्कुराइए !

हमें इस तरह किसी को देखने की आदत न थी ,

पर आपकी अंगड़ाई ने हमें देखना सिखा दिया || 6 ||

हमें इस तरह ख़्वाबों में खोने की आदत न थी ,

पर आपके सपनों ने हमें सोना सिखा दिया || 7 ||

हमें इस तरह अकेले रहने की आदत न थी ,

पर आपकी यादों ने हमें अकेले रहना सिखा दिया || 8 ||

हमें इस तरह तनहाई की वीरानियों में रोने की आदत न थी ,

पर आपकी जुदाई ने हमें रोना सिखा दिया || 9 ||

Also read :  शब्द और अनुभव – जीवन और जीवन का सार

Also read :  जवानी

सपन कुमार सिंह , 05/02/2007 , सोमवार 

Leave a Reply

Close Menu