क़दमों का रूख

मोड़ लेना , जब दिल के सागर में , तूफ़ान उठने लगे , कश्ती का रूख , किनारों की ओर मोड़ लेना रुख मोड़ लेना

0 Comments

ये मैनें जाना ना था !

ये मैनें जाना ना था ! My feelings tried to come out from my heart but ............................ भावनाओं का तूफ़ान इस तरह , मेरी ज़िन्दगी में आएगा , ये मैनें जाना ना था  || 1 || तूफानों की इन तेज हवाओं में , इस साहिल पर मैं अकेला रहूँगा , सिर्फ एक तिनके का सहारा होगा ,

0 Comments

गुमनाम शहीद

गुमनाम शहीद भारत माँ के आँचल तले , सो गये ना जाने कितने गुमनाम शहीद || 1 || कितने नाम , कितने चेहरे ,कितने मासूम , कितने वीर थे , गुमनाम शहीद || 2 || जंगल - जंगल , बस्ती - बस्ती ,

0 Comments

आपकी यादें

आपकी यादें याद करता हूँ आपको , तो इस धड़कते दिल को , आपकी जुदाई का एहसास होता हैं , और जुदाई में सिर्फ खामोशियाँ हैं || 1 || सोचता हूँ आपको , तो आपके साथ बिताये , वो हँसीन पल याद आते हैं , और इन खुशनुमा पलों में सिर्फ ,

0 Comments

आदत न थी

हमें लिखने की आदत न थी , पर आपकी सोहबत ने हमें लिखना सिखा दिया || 1 || हमें यू इशारों में बात करने की आदत न थी ,  पर आपकी नजरों ने हमें इशारों में बात करना सिखा दिया || 2 ||  हमें इस तरह बोलने की आदत न थी , पर आपके नगमों ने मेरे लब्जों को थिरकना सिखा दिया  || 3 ||

0 Comments

छेड़ गया कोई !

सपनों में आकर  ,  मेरे ख़्वाबों को छेड़ गया कोई , मुस्कुराहटों पर मेरी , चार चाँद लगा गया कोई , आँखों में मेरी ,  नशीली प्यास जगा गया कोई , साँसों से ,  साँसों की खुश्बू को बढ़ा गया कोई ,

0 Comments

इतना ना मुस्कुराइए !

इतना ना मुस्कुराइए ! इस कदर इतना ना मुस्कुराइए , हम पर बिजली ना गिराइए , घायल हो जायेंगे हम , हमें घायल ना बनाइए  || 1 || इस कदर लुका - छिपी ना खेलिए , हमें इतना ना थकाइए , सपनों में खो जायेंगे हम , हमें नींद में ना सुलाइए  || 2 ||

0 Comments
  • 1
  • 2
Close Menu