क़दमों का रूख

मोड़ लेना , जब दिल के सागर में , तूफ़ान उठने लगे , कश्ती का रूख , किनारों की ओर मोड़ लेना रुख मोड़ लेना

0 Comments

अच्छी नींद के लाभ – अच्छी नींद कैसे प्राप्त करें

आजकल के व्यस्त दिनचर्या के कार्यक्रम एवं भाग - दौड़ के कारण अक्सर नींद ना एक आम बात हो गयी हैं | हममें से अधिकांश लोग इस बात पर ध्यान नहीं देते | पर इससे हमारा ही नुक्सान हैं | वैसे देखा जाएँ तो इसकी वजह भी हम ही  हैं | हम अपने काम एवं जिम्मेदारियों में इतनी खो गए हैं कि हम अपने जीवन की सबसे अमूल्य वस्तु अपने स्वास्थ्य को ही भुल गए हैं | एक अच्छी नींद हमारे शरीर के कई रोगों को दूर करती हैं या रोगों को हमारे पास फटकने भी नहीं देती हैं | आइए हम सबसे पहले नींद न आने के कारणों को देखते हैं , फिर उसके दुष्प्रभाव एवं उसके बाद अच्छी नींद के उपाय को देखते हैं |

0 Comments

लखनिया दरी – अहरौरा

लखनिया दरी की स्थिति  यह जलप्रपात अहरौरा नगर से लगभग 10 किमी० की दूरी पर वाराणसी से शक्तिनगर मार्ग पर स्थित हैं | लखनिया दरी काफी बड़े भू - भाग में फैला हैं , जो कि प्राकृतिक स्थलाकृतियों से परिपूर्ण हैं | यहाँ पर जलप्रपात से कुछ दूरी पर दुर्लभ जंगली जानवर भी रहते हैं , साथ ही कुछ विलुप्तप्राय वनस्पतियाँ भी मिलती हैं | कैसे जाएँ  लखनिया दरी वाराणसी कैन्ट स्टेशन से सीधे अपनी प्राइवेट वाहन द्वारा या रोडवेज या ऑटो द्वारा पहुचा जा सकता हैं | मिर्जापुर या चुनार से जाने के लिए या तो आप नारायणपुर से वाराणसी - शक्तिनगर मार्ग से मुड़ सकते हैं , या चुनार से 5 किमी० की दूरी पर जमुई नामक स्थान से जमुई - अहरौरा मार्ग

0 Comments

सन्स्क्रीन : आपके त्वचा को धूप की पराबैंगनी किरणों से बचाए

सन्स्क्रीन : जरूरी क्यों  चाहे मौसम कोई भी हो हमारे  चेहरे एवं त्वचा की ख़ास देखभाल जरुरी हैं | विशेषकर गर्मी के दिनों में धूप तेज निकलती हैं तथा उसमें पराबैंगनी किरणों की मात्रा भी ज्यादा होती हैं | हम सभी धूप से बचने हेतु कोई न कोई उपाय जरुर करते हैं , कुछ लोग छाता लेकर चलते हैं , कुछ लोग लोग अपने अपने चेहरे को स्टाल या सूती टावल से बाँध लेते हैं जबकि कुछ लोग बिना किसी वस्तु के प्रयोग के धूप में यू ही काम करते हैं या निकलते हैं | आपने अक्सर बाजारों में या अन्य स्थानों पर किसी मजदूर को काम करते हुए देखा होगा , पर क्या आपने धूप के प्रभाव से उसके शरीर पर एवं चेहरे पर पड़ी काली लकीरों या कालेपन को देखा | ये कालापन कुछ और नहीं बल्कि धूप का प्रभाव हैं |अगर हम दूप एवं उसकी पराबैंगनी किरणों से स्वयं की रक्षा नहीं करंगे तो हो सकता हैं हमें पराबैंगनी किरणों से त्वचा कैंसर हो

0 Comments

तूफाने सफ़र ज़िन्दगी में !

Success always wins with the struggle of life and barriers are broken. this is the moral story of life and it's always true............. तूफाने सफ़र ज़िन्दगी में ! मुश्किलें और भी आएंगी , राहे सफ़र ज़िन्दगी में  | अँधेरा और भी घना होगा , मंजिले तलाश में | कोई साया भी साथ न होगा तेरे ,

0 Comments

पुकार

पुकार नजरें तलाशती हैं उन्हें . जिन्हें दिल भूलना चाहता हैं  || 1 || यादे आती हैं उनकी , जिनकी हस्ती को मिटाना चाहता हूँ  || 2 || कदम बढ़ जाते हैं उनके आशियाने की ओर , जिनके परछाइयों से दूर जाना चाहता हूँ || 3 ||

0 Comments

‘चन्द लम्हों की जिन्दगी अपनी’

'चन्द लम्हों की जिन्दगी अपनी ' कुछ दर्द हैं होठों पर , कुछ नमी हैं आँखों में अभी , शिकवे - शिकायतों के बादलों में , 'चन्द लम्हों की जिन्दगी अपनी' || 1 || कुछ तरंगे  हैं मन में उठी , कुछ बेचैनी हैं धड़कन में अभी . सुख - दुःख के लहरों पर भटकती ,

0 Comments
Close Menu