प्रकृति का उपहार – राजदरी व् देवदरी ( चन्दौली )

प्रकृति प्रेमियों के लिए राजदरी व् देवदरी जन्नत समान हैं , यहाँ के जैसा सुन्दरतम दृश्य एवं वन - सम्पदा से परिपूर्ण कोई और स्थान नहीं हो सकता हैं | यह स्थान अपने आप में एक अलग स्थान रखता हैं | केवल यह स्थान ही नहीं अपितु यहाँ आने से पहले पड़ने वाले घनघोर जंगल के बीच से गुजरता सड़क जैसे अपनी कहानी कह रहा हो , एक कविता गुनगुना रहा हो , ऐसा मालूम पड़ता हैं | 

0 Comments

विंढमफाल – मिर्जापुर

विंढमफाल की स्थिति  विंढमफाल मिर्जापुर - राबर्ट्सगंज मुख्य मार्ग पर मिर्जापुर मुख्यालय से 15 किमी० की दूरी पर स्थित हैं | 

0 Comments

लखनिया दरी – अहरौरा

लखनिया दरी की स्थिति  यह जलप्रपात अहरौरा नगर से लगभग 10 किमी० की दूरी पर वाराणसी से शक्तिनगर मार्ग पर स्थित हैं | लखनिया दरी काफी बड़े भू - भाग में फैला हैं , जो कि प्राकृतिक स्थलाकृतियों से परिपूर्ण हैं | यहाँ पर जलप्रपात से कुछ दूरी पर दुर्लभ जंगली जानवर भी रहते हैं , साथ ही कुछ विलुप्तप्राय वनस्पतियाँ भी मिलती हैं | कैसे जाएँ  लखनिया दरी वाराणसी कैन्ट स्टेशन से सीधे अपनी प्राइवेट वाहन द्वारा या रोडवेज या ऑटो द्वारा पहुचा जा सकता हैं | मिर्जापुर या चुनार से जाने के लिए या तो आप नारायणपुर से वाराणसी - शक्तिनगर मार्ग से मुड़ सकते हैं , या चुनार से 5 किमी० की दूरी पर जमुई नामक स्थान से जमुई - अहरौरा मार्ग

0 Comments

बाबा सिद्धनाथ की दरी – चुनार

बाबा सिद्धनाथ की दरी की स्थिति  यह जलप्रपात चुनार से राजगढ़ सम्पर्क मार्ग पर चुनार से लगभग 17 किमी० की दूरी पर सक्तेशगढ़ नामक स्थान पर स्थित हैं | यह प्राकृतिक वादियों से परिपूर्ण एक मनोरम स्थान हैं | यहाँ आकर मानों वाही चैन व् सुकून वापस मिल गया हो | यहाँ पहाड़ी झरना हैं जो कई फीट ऊँचाई पर स्थित है | 

0 Comments

ये मैनें जाना ना था !

ये मैनें जाना ना था ! My feelings tried to come out from my heart but ............................ भावनाओं का तूफ़ान इस तरह , मेरी ज़िन्दगी में आएगा , ये मैनें जाना ना था  || 1 || तूफानों की इन तेज हवाओं में , इस साहिल पर मैं अकेला रहूँगा , सिर्फ एक तिनके का सहारा होगा ,

0 Comments

तूफाने सफ़र ज़िन्दगी में !

Success always wins with the struggle of life and barriers are broken. this is the moral story of life and it's always true............. तूफाने सफ़र ज़िन्दगी में ! मुश्किलें और भी आएंगी , राहे सफ़र ज़िन्दगी में  | अँधेरा और भी घना होगा , मंजिले तलाश में | कोई साया भी साथ न होगा तेरे ,

0 Comments

गुमनाम शहीद

गुमनाम शहीद भारत माँ के आँचल तले , सो गये ना जाने कितने गुमनाम शहीद || 1 || कितने नाम , कितने चेहरे ,कितने मासूम , कितने वीर थे , गुमनाम शहीद || 2 || जंगल - जंगल , बस्ती - बस्ती ,

0 Comments

आपकी यादें

आपकी यादें याद करता हूँ आपको , तो इस धड़कते दिल को , आपकी जुदाई का एहसास होता हैं , और जुदाई में सिर्फ खामोशियाँ हैं || 1 || सोचता हूँ आपको , तो आपके साथ बिताये , वो हँसीन पल याद आते हैं , और इन खुशनुमा पलों में सिर्फ ,

0 Comments

आदत न थी

हमें लिखने की आदत न थी , पर आपकी सोहबत ने हमें लिखना सिखा दिया || 1 || हमें यू इशारों में बात करने की आदत न थी ,  पर आपकी नजरों ने हमें इशारों में बात करना सिखा दिया || 2 ||  हमें इस तरह बोलने की आदत न थी , पर आपके नगमों ने मेरे लब्जों को थिरकना सिखा दिया  || 3 ||

0 Comments
  • 1
  • 2
Close Menu