ये मैनें जाना ना था !

ये मैनें जाना ना था !

 

ये मैनें जाना ना था !

My feelings tried to come out from my heart but ……………………….

भावनाओं का तूफ़ान इस तरह ,

मेरी ज़िन्दगी में आएगा ,

ये मैनें जाना ना था  || 1 ||

तूफानों की इन तेज हवाओं में ,

इस साहिल पर मैं अकेला रहूँगा ,

सिर्फ एक तिनके का सहारा होगा ,

ये मैनें जाना ना था  || 2 ||

ऊपर हवाएँ मेरी ,

किस्मत आजमाएंगी ,

नीचे जमीं पर सैलाबों ,

का जलजला होगा ,

ये मैनें जाना ना था  || 3 ||

इस कदर ये लहरें ,

मुझसे टकराएंगी ,

ये तूफानी हवाएँ मुझे ,

ऐसे मंजर पर ले आएंगी ,

ये मैनें जाना ना था  || 4 ||

बर्फीली बरसात इस तरह ,

मेरा नींद चुरा लेगी ,

बेचैनी देकर ,

चैन मेरा ले लेगी ,

ये मैनें जाना ना था  || 5 ||

इस सागर में मेरी वादियाँ ,

मुझसे दूर हो जाएँगी ,

बीच भँवर सागर लहरों में ,

उलझकर तनहा हो जाऊँगा ,

ये मैनें जाना ना था  || 6 ||

चाँदनी रात भी मुझसे ,

दामन छुड़ा लेगी ,

इस दुनियाँ की परछाइयाँ ,

एक नाम बनकर रह जायेंगी ,

ये मैनें जाना ना था  || 7 ||

इक झोका पवन का ,

साड़ी खुश्बू उड़ा ले जायेगी ,

इक मंजिल मेरी ज़िन्दगी की ,

साड़ी राहों को मोड़ जायेगी ,

ये मैनें जाना ना था  || 8 ||

ना चाहने पर भी मेरे ,

सागर संग अंगुलियाँ नाच उठेंगी ,

इक नई रचना को ,

यादों के कोरे पन्ने पर लिख जायेंगी ,

ये मैनें जाना ना था  || 9 ||

 

Also Read : 

तूफाने सफ़र ज़िन्दगी में !

छेड़ गया कोई !

सपन कुमार सिंह , 25/03/2007 , रविवार 

Leave a Reply

Close Menu